तेरी है ज़मीन तेरा आसमान Teri Hai Zameen Tera Aasmaan Hindi Lyrics – The Burning Train


Teri Hai Zameen Tera Aasmaan Hindi Lyrics from movie The Burning Train sung by Padmini Kolhapure, Sushma Shrestha. Song is written by Sahir Ludhianvi and composed by R D Burman. Starring Dharmendra, Vinod Khanna, Hema Malini, Jeetendra, Parveen Babi, Neetu Singh, Danny Denzongpa, Vinod Mehra.

Song Title: Teri Hai Zameen Tera Aasmaan
Movie: The Burning Train(1980)
Singers: Padmini Kolhapure, Sushma Shrestha
Lyrics: Sahir Ludhianvi
Music: Rahul Dev Burman
Music Label: HMV

Teri Hai Zameen Tera Aasmaan Hindi Lyrics

तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
सभी का है तू, सभी तेरे
ख़ुदा मेरे तू बक्शीस कर

तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
सभी का है तू, सभी तेरे
ख़ुदा मेरे तू बक्शीस कर

तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
सभी का है तू, सभी तेरे ख़ुदा
मेरे तू बक्शीस कर

तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
सभी का है तू, सभी तेरे ख़ुदा
मेरे तू बक्शीस कर

ओ तेरी मर्ज़ी से ऐ मालिक हम
इस दुनिया में आये हैं
तुम लोग चुप क्यूँ हो गए
गाओ ना बच्चों
गाओ..

तेरी मर्ज़ी से ऐ मालिक हम
इस दुनिया में आये हैं
तेरी रहमत से हम सबने
ये जिस्म और जान पाए हैं
तू अपनी नज़र हम पर रखना
किस हाल में हैं ये ख़बर रखना

तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
सभी का है तू, सभी तेरे
ख़ुदा मेरे तू बक्शीस कर

तू चाहे तो हमें रखे
तू चाहे तो हमें मारे
तू चाहे तो हमें रखे
तू चाहे तो हमें मारे
ओ.. तेरे आगे झुकाके सर
खड़े हैं आज हम सारे

ओ.. सबसे बड़ी ताक़त वाले
तू चाहे तो हर आफत टाले

तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
सभी का है तू, सभी तेरे
ख़ुदा मेरे तू बक्शीस कर

तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
सभी का है तू, सभी तेरे
ख़ुदा मेरे तू बक्शीस कर

तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
सभी का है तू, सभी तेरे
ख़ुदा मेरे तू बक्शीस कर

तेरी है ज़मीन तेरा आसमान
तू बड़ा मेहरबान तू बक्शीस कर
सभी का है तू, सभी तेरे
ख़ुदा मेरे तू बक्शीस कर

Teri Hai Zameen Tera Aasmaan Lyrics (English Font)

Teri hai zameen tera aasman
tu bada meharba tu bakshish kar
teri hai zameen tera aasman
tu bada meharbaan tu bakshish kar
sabhi ka hai tu sabhi tere
khuda mere tu bakshish kar

teri hai zameen tera aasman
tu bada meharba tu bakshish kar
sabhi ka hai tu sabhi tere
khuda mere tu bakshish kar

teri hai zameen tera aasman
tu bada meharba tu bakshish kar
sabhi ka hai tu sabhi tere
khuda mere tu bakshish kar

teri hai zameen tera aasman
tu bada meharba tu bakshish kar
sabhi ka hai tu sabhi tere
khuda mere tu bakshish kar

ho teri marzi se aye malik
hum is dunia me aaye hai
tum log chup kyun ho gaye
gaao na bacchon gaao..

teri marzi se aye malik hum
is dunia me aaye hai
teri rahmat se hum sabne
ye jism or jaan paye hain
tu apni najar hum par rakhna
is haal mein hain ye khabar rakhna

teri hai zameen tera aasman
tu bada meharba tu bakshish kar
sabhi ka hai tu sabhi tere
khuda mere tu bakshish kar

tu chahe to hame rakhe
tu chahe to hame mare
tu chahe to hame rakhe
tu chahe to hame mare
o.. tere aage jhuka ke sar
khade hai aaj hum sare

o sabse badi takat wale
tu chahe to har aafat taale

teri hai zameen tera aasman
tu bada meharba tu bakshish kar
sabhi ka hai tu sabhi tere
khuda mere tu bakshish kar

teri hai zameen tera aasman
tu bada meharba tu bakshish kar
sabhi ka hai tu sabhi tere
khuda mere tu bakshish kar

teri hai zameen tera aasman
tu bada meharba tu bakshish kar
sabhi ka hai tu sabhi tere
khuda mere tu bakshish kar

teri hai zameen tera aasman
tu bada meharba tu bakshish kar
sabhi ka hai tu sabhi tere
khuda mere tu bakshish kar

This website uses cookies.