इक दिन बिक जाएगा Ek Din Bik Jayega Lyrics in Hindi – Mukesh

Song Title: Ek Din Bik Jayega
Movie: Dharam Karam
Lyrics: Majrooh Sultanpuri
Singer: Mukesh
Music: R. D. Burman
Year: 1975

Ek Din Bik Jayega Lyrics in Hindi

इक दिन बिक जाएगा
माटी के मोल
जग में रह जाएंगे
प्यारे तेरे बोल


हो इक दिन बिक जाएगा
माटी के मोल
जग में रह जाएंगे
प्यारे तेरे बोल

दूजे के होंठों को
देकर अपने गीत
कोई निशानी छोड़
फिर दुनिया से डोल

इक दिन बिक जाएगा
माटी के मोल
जग में रह जाएंगे
प्यारे तेरे बोल

ला ला ललल्लल्ला

अनहोनी पग में काँटें लाख बिछाए
होनी तो फिर भी बिछड़ा यार मिलाए
अनहोनी पग में काँटें लाख बिछाए
होनी तो फिर भी बिछड़ा यार मिलाए
ये बिरहा ये दूरी, दो पल की मजबूरी
फिर कोई दिलवाला काहे को घबराये
तरम्पम धारा, तो बहती है, बहके रहती है
बहती धारा बन जा, फिर दुनिया से डोल

इक दिन बिक जाएगा
माटी के मोल
जग में रह जाएंगे
प्यारे तेरे बोल

परदे के पीछे बैठी साँवली गोरी
थाम के तेरे मेरे मन की डोरी 
परदे के पीछे बैठी साँवली गोरी
थाम के तेरे मेरे मन की डोरी 
ये डोरी ना छूटे
ये बन्धन ना टूटे
भोर होने वाली है 
अब रैना है थोड़ी
तरम्पम सर को झुकाए तू
बैठा क्या है यार
गोरी से नैना जोड़
फिर दुनिया से डोल

इक दिन बिक जाएगा
माटी के मोल
जग में रह जाएंगे
प्यारे तेरे बोल