तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो Tum Itna Jo Muskura Rahe Ho Hindi Lyrics | Jagjit Singh

Jagjit Singh’s Tum Itna Jo Muskura Rahe Ho song lyrics in Hindi (Devnagri Font): This song is from movie Arth (1983) music composed by Jagjit Singh and Chitra Singh, lyrics penned by Kaifi Azmi.  

Lyrics of Tum Itna Jo Muskura in Hindi

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो
तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो
क्या गम है जिसको छुपा रहे हो
क्या गम है जिसको छुपा रहे हो
तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो

आँखों में नमी, हंसी लबों पर
आँखों में नमी, हंसी लबों पर
क्या हाल है क्या दिखा रहे हो

क्या हाल है क्या दिखा रहे हो
क्या गम है जिसको छुपा रहे हो
तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो

बन जायेंगे ज़हर पीते पीते
बन जायेंगे ज़हर पीते पीते
ये अश्क जो पिए जा रहे हो
ये अश्क जो पिए जा रहे हो

जिन ज़ख्मों को वक़्त भर चला है
जिन ज़ख्मों को वक़्त भर चला है
तुम क्यों उन्हें छेड़े जा रहे हो

तुम क्यों उन्हें छेड़े जा रहे हो
क्या गम है जिसको छुपा रहे हो
तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो

रेखाओं का खेल है मुक़द्दर
रेखाओं का खेल है मुक़द्दर
रेखाओं से मात खा रहे हो

रेखाओं से मात खा रहे हो
क्या गम है जिसको छुपा रहे हो
तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो
क्या गम है जिसको छुपा रहे हो

Also See:
होशवालों Hoshwalon Ko Khabar Kya – Jagjit Singh