रूठा क्यूँ Rootha Kyun Hindi Lyrics – 1920 London

Rootha Kyun song lyrics in Hindi form movie 1920 London sung by Mohit Chauhan, music composed by Sharib-Toshi, and lyrics penned by Azeem Shirazi. Starring Sharman Joshi, Meera Chopra.

Song title: Rootha Kyun (1920 London)
Year: 2016
Singer: Mohit Chauhan
Lyrics: Azeem Shirazi
Music: Sharib-Toshi
Music label: T-Series


Lyrics of Rootha Kyun in Hindi:

रूठा क्यूँ मुझसे इतना खफ़ा ना होना इतना तू
सांसें भी तेरे बिना मैं ना लूं
जाने क्यूँ बेवजह

ओह हो.. रहने दे
तेरी मोहब्बतों में रहने दे
तेरे ख्वाबों में मुझे बहने दे
ऐसा होने दे तू ज़रा

मैं तो तेरे शाब की सुबह हूँ ना
हाथों की लकीरों में लिखा हूँ ना
मैं तो तेरे शाब की सुबह हूँ ना
हाथों की लकीरों में लिखा हूँ ना

रहता है मेरे होंठों पे तेरे होंठों का निशाँ
होता है तन्हा रातों में तेरे होने का गुमान
मुझे महसूस हुआ है ऐसा लगा है
तुमने छुआ है ना

मैं तो तेरे शाब की सुबह हूँ ना
हाथों की लकीरों में लिखा हूँ ना
मैं तो तेरे शाब की सुबह हूँ ना
हाथों की लकीरों में लिखा हूँ ना
हम्म हो..

लाजिम है, जैसे साँसों के लिए लाजी है हवा
वैसे ही मेरे लिए ज़रूरी है होना तेरा
तेरे मेरे प्यार का रिश्ता सदियों रहेगा
सदियों रहा है ना

मैं तो तेरे शाब की सुबह हूँ ना
हाथों की लकीरों में लिखा हूँ ना
मैं तो तेरे शाब की सुबह हूँ ना
हाथों की लकीरों में लिखा हूँ ना

English Lyrics of Rootha Kyun:

Rootha kyun mujhse itna khafa na hona itna tu
Saansein bhi tere bina main na loon
Jaane kyun bewajah

O ho rehne de
Teri mohabbaton mein rehne de
Tere khwabon mein mujhe behne de
Aisa hona de tu zara

Main toh tere shab ki subah hoon na
Hathon ki lakeeron mein likha hoon na
Main toh tere shab ki subah hoon na
Hathon ki lakeeron mein likha hoon na

Rehta hai mere honthon pe tere honthon ka nishaan
Hota hai tanha raaton mein tere hone ka gumaan
Mujhe mehsoos hua hai aisa laga hai
Tumne chhua hai na

Main toh tere shab ki subah hoon na
Hathon ki lakeeron mein likha hoon na
Main toh tere shab ki subah hoon na
Hathon ki lakeeron mein likha hoon na
Hmm.. ho..

Laazim hai, jaise saanson ke liye laazi hai hawa
Waise hi mere liye zaroori hai hona tera
Tere mere pyar ka rista sadiyon rahega
Sadiyon raha hai na

Main toh tere shab ki subah hoon na
Hathon ki lakeeron mein likhi hoon na
Main toh tere shab ki subah hoon na
Hathon ki lakeeron mein likha hoon na