मेरे रश्के क़मर Mere Rashke Qamar Hindi Lyrics – Nusrat Fateh Ali Khan

mere rashke qamar hindi lyrics

Song title: Mere Rashke Qamar
Singer: Nusrat Fateh Ali Khan
Music label: Thukral Manufacturing Company (TMC)

Also See: Mere Rashke Qamar from Baadshaho movie


Mere Rashke Qamar Hindi Lyrics

मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया
मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

बर्क सी गिर गयी काम ही कर गयी
आग ऐसी लगायी मज़ा आ गया
जाम में घौल कर हुस्न की मस्तियाँ
चांदनी मुस्कुराई मज़ा आ गया

चाँद के साए में ऐ मेरे साकिया
तू ने ऐसी पिलाई मज़ा आ गया

नशा शीशे में अंगड़ाई लेने लगा
बज़्म रिन्दान में सागर खनकने लगा
मैकदे पे बरसने लगी मस्तियाँ
जब घटा गिर के छाई मज़ा आ गया

वो बे हिजबाना वो सामने आ गए
और जवानी जवानी से टकरा गयी
और जवानी जवानी से टकरा गयी
आँख उनकी लड़ी यूँ मेरी आँख से
आँख उनकी लड़ी यूँ मेरी आँख से
देख कर ये लड़ाई मज़ा आ गया

मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

आँख में ठी हया हर मुलाक़ात पर
सुर्ख आरिज़ हुए वसल की बात पर
सुर्ख आरिज़ हुए वसल की बात पर
उसने शर्मा के मेरे सवालात पे
उसने शर्मा के मेरे सवालात पे
ऐसे गर्दन झुकाई मज़ा आ गया

मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया
मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

बर्क सी गिर गयी काम ही कर गयी
आग ऐसी लगायी मज़ा आ गया
जाम में घौल कर हुस्न की मस्तियाँ
चांदनी मुस्कुराई मज़ा आ गया

शिख साहिब का ईमान बिक ही गया
देख कर हुस-ए-साक़ी पिघल ही गया
आज से पहले ये कितने मगरुर थे
लुट गयी परसाई मज़ा आ गया

ऐ फ़ना शुकर है आज बाद-ए-फ़ना
उसने रख ले मेरे प्यार की आबरू
अपने हाथों से उसने मेरी क़बर पर
चादर-ए-गुल चढ़ाई मज़ा आ गया

मेरे रश्के क़मर तू ने पहली नज़र
जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया

Also See: Mere Rashke Qamar – Baadshaho


Mere Rashke Qamar Lyrics (English Font)

mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya
mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya

barf si gir gayi kaam hi kar gayi
aag aisi lagaayi mazaa aa gaya

jaam mein ghoul kar husan ki mastiyan
chaandni muskurai mazaa aa gaya

chand ke saye mein ae mere sakiya
tu ne aisi pilai mazaa aa gaya

nasha shishe mein angdai lene laga
bajm rindan mein sagar khankne laga
maikade pe barasne lagi mastiyan
jab gata gir ke chhai mazaa aa gaya

wo be hijabaana woh saamne aa gaye
aur jawaani jawaani se takra gayi
aankh unki lardi yun meri aankh se
dekh kar ye laraai maza aa gaya

mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya

aankh mein thi haya her mulaqaat par
surkh aariz huay wasal ki baat par
usne sharma ke mere sawaalat pe
usne sharma ke mere sawaalat pe
aise gardan jhukaayi maza aagaya

mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya
mere rashke qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya

barf si gir gayi kaam hi kar gayi
aag aisi lagaayi mazaa aa gaya
jaam mein ghoul kar husan ki mastiyan
chaandni muskurai mazaa aa gaya

shaikh sahib ka imaan bik he gaya
daikh kar husan e saqi pigal he gaya
aaj se pehle ye kitne maghroor the
lut gayi parsaayi maza aa gaya

ae fanna shukar hai aaj baad e fanna
usne rakh le mere pyaar kee aabro
apne haathon se usne meri qabar par
chaadar e gul charhaayi mazaa aagaya

mere rashk e qamar tu ne pehli nazar
jab nazar se milaayi mazaa aa gaya

Also See: Mere Rashke Qamar – Baadshaho