आशिक़ हूँ मैं Aashiq Hoon Main Hindi Lyrics – Udit Narayan, Asha Bhosle

aashiq hoon main hindi lyrics


Aashiq Hoon Main Hindi Lyrics from movie Pyar To Hona Hi Tha sung by Udit Narayan, Asha Bhosle. Song is written by Sameer and composed by Jatin Lalit It features Ajay Devgan, Kajol in the lead roles.

Song Title: Aashiq Hoon Main
Movie: Pyar To Hona Hi Tha (1998)
Singers: Udit Narayan, Asha Bhosle
Lyrics: Sameer
Music: Jatin Lalit
Music Label: Sony Music

Aashiq Hoon Main Hindi Lyrics

आशिक़ हूँ मैं जान-ए-जिगर
मुझे देख ले बस एक नज़र
आशिक़ हूँ मैं जान-ए-जिगर
मुझे देख ले बस एक नज़र
बहारों का समा है
हमारा दिल जवां है
ये बैरी ज़माना जले तो जले


आशिक़ हूँ मैं जान-ए-जिगर
मुझे देख ले बस एक नज़र
आशिक़ हूँ मैं जान-ए-जिगर
मुझे देख ले बस एक नज़र
बहारों का समा है
हमारा दिल जवान है
ये बैरी ज़माना जले तो जले

आशिक़ हूँ मैं जान-ए-जिगर

मुझपे अपने हुस्न की
बिजली न गिरा

आ चेहरे पे डाल दूं
जुल्फों की घटा

खाव्बों की हूर है तू

क्यूँ मुझसे दूर है तू

हे खुशबू की राहों में

आ मेरी बाँहों में

मैं सीने से लगा लूं
ख्यालो में बसा लूं
ये बैरी जमाना जले तो जले

मेरे सामने महबूब है
मौसम जवां क्या खूब है

वफ़ा का अफ़साना
लिखेंगे जाने जाना
ये बैरी जमाना जले तो जले

हाँ हाँ जाने जिगर

अब ना होगा कम कभी
उलफत का नशा

करती है पागल मुझे
तेरी हर अदा

इतना ही कहना है

पलकों में रहना है

एक लम्हा, एक भी दिन

जीना क्या तेरे बिन

ये मेरी ज़िंदगानी है तेरी ही कहानी
ये बैरी ज़माना जले तो जले

कुछ तुम कहो कुछ मैं कहूँ
ऐसे मैं क्यूँ दूरी सहूं

निगाहों में बसाऊ
मैं तेरी बन जाओं
ये बैरी ज़माना जले तो जले

आशिक हूँ मैं, जान-ए-जिगर
मुझे देख ले बस एक नज़र

आशिक हूँ मैं, जान-ए-जिगर
मुझे देख ले बस एक नज़र

बहारों का समा है
हमारा दिल जवां है
ये बैरी ज़माना जले तो जले

जले तो जले
ये बैरी ज़माना
जले तो जले…

Aashiq Hoon Main Lyrics (English Font)

Aashiq hoon main jaan-e-jigar
mujhe dekh le bus ek nazar
aashiq hoon main jaan-e-jigar
mujhe dekh le bus ek nazar
baharoon ka samaa hai
humara dil jawan hai
ye bairi zamaana jale to jale
aashiq hoon main jaan-e-jigar
mujhe dekh le bus ek nazar
aashiq hoon main jaan-e-jigar
mujhe dekh le bus ek nazar
baharoon ka samaa hai
humara dil jawan hai
ye bairi zamaana jale to jale

aashiq hoon main jaan-e-jigar

mujhpe apne husn ki
bijali na gira

aa chehare pe daal doon
julfon ki dhata

khawabon ki hoor hai tu

kyun mujhse door hai tu

hai khushboo ki rahon mein

aa meri baahon mein

main seene se laga loon
khayal mein basa loon
ye bairi zamana jale to jale

mere samne mahoob hai
mausam jawaan kya khub hai

wafa ka afsaana
likhenge jaane jaana
ye bairi zamana jale to jale

haan haan jane jaan-e-jigar

ab na hoga kum kabhi
ulfat ka nasha

karti hai pagal mujhe
teri har adaa

itna hi kehna hai

palkoon mein rehna hai

ek lamhaa, ek bhi din

jeena kya tere bin

ye meri zindgaani hai teri hi kahaani
ye bairi zamaana jale to jale

kuch tum kaho kuch main kahoon
aise main kyoon doori sahoon

nigaahon mein basaaon
main teri ban jaaon
ye bairi zamaana jale to jale
aashik hoon main, jaan-e-jigar
mujhe dekh le bus ek nazar

aashik hoon main, jaan-e-jigar
mujhe dekh le bus ek nazar

baharoon ka samaa hai
humara dil jawaan hai
ye baairi zamaana jaale to jaale

jaale to jaale
yeh baairi zamaana
jaale to jaale..