बर्फ सी BARF SI Lyrics in Hindi – Nirdosh | Armaan Malik

Barf Si Hindi Lyrics
Barf Si Hindi lyrics from Nirdosh written by Amit Khan, music is composed by Harry Anand and sung by Armaan Malik. Starring Asmit Patel, Manjari Fadnnis, Maheck Chahal.


Song Title: Barf Si Lyrics
Movie: Nirdosh
Singer: Armaan Malik
Lyrics: Amit Khan
Music: Harry Anand
Music Label: Zee Music Company



Barf Si Hindi Lyrics

ओ ओ..

बर्फ सी तू पिघल जा
सर्दी की सर्द रातों में

बर्फ सी तू पिघल जा
सर्दी की सर्द रातों में
मैं तुझमें जी रहा हूँ
बस तू है मेरे इरादों में

(हाँ कर रही है तेरी मोहब्बत
ज़िन्दगी में मेरी सिरकत
इश्क में अपने भींगा दे
ख्वाहिशों की कर दे बरकत) x २

बेपनाह तेरे इश्क में
गया हूँ में जान से
रिवाजों से दूर होके
हो गया तेरा मैं इमान से

तू गुनगुनी रात है
तू गुनगुनी है सुबह
बंदिशों से मेरी मुझे
आ कर दे रिहा..

तू मुझे दे भी दे
जीने की वजह

बर्फ सी तू पिघल जा
सर्दी की सर्द रातों में
मैं तुझमें जी रहा हूँ
www.hinditracks.in
बस तू है मेरे इरादों में

आ..

तू जो आई इत्र हवाओं में
बिखर गया
ज़र्रा-ज़र्रा रूह का मेरी
निखर गया..

तू लाज्मी हर पल में है
सुन ले मेरी इल्तजा
हर भरम अब हो गया
तेरा मेरा फर्सफा

तू मुझे दे भी दे
जीने की वजह

बर्फ सी तू पिघल जा
सर्दी की सर्द रातों में
मैं तुझमें जी रहा हूँ
बस तू है मेरे इरादों में

Also See: सैयां रे
More Songs by Armaan Malik

Barf Si Lyrics (English)

O o..

barf si tu pighal jaa
sardi ki sard raaton mein

barf si tu pighal jaa
sardi ki sard raaton mein
main tujhmein jee rha hoon
bas tu hai mere iraadon main

haan kar rahi hai teri mohabbat
zindagi mein meri sirkat
ishq mein apne bheenga de
khwahishon ki kar de barkat

haan kar rahi hai teri mohabbat
zindagi mein meri sirkat
ishq mein apne bheenga de
khwahishon ki kar de barkat

bepanaah tere ishq mein
gaya hoon main jaan se
riwajon se door hoke
www.hinditracks.in
ho gaya tera main imaan se

tu gunguni raat hai
tu gunguni hai subah
bandisho se meri mujhe
aa kar de riha..

tu mujhe de bhi de
jeene ki wajah

barf si tu pighal jaa
sardi ki sard raaton mein
main tujhmein jee rha hoon
bas tu hai mere iraadon main

aa…

tu jo aai itr hawaon mein
bikhar gaya
jarra jarra rooh ka meri
nikhar gaya..

tu laazmi har pal mein hai
sun le meri iltza
har dharam ab ho gaya
tera mera falsafa

tu mujhe de bhi de
jeene ki wajah

barf si tu pighal jaa
sardi ki sard raaton mein
main tujhmein jee rha hoon
bas tu hai mere iraadon main