Bhagwat Geeta Shlok in Hindi – लोकप्रिय गीता श्लोक अर्थ सहित

Here we would like to cover some most famous Bhagwat Geeta Shlok and also the meaning of shlokas in Hindi. The Gita is set in a narrative structure of a conversation between Arjuna and his guide and charioteer Krishna. At the start of the Dharma Yudhha between Pandavas and Kauravas, Arjuna is filled with moral dilemma and despair about the violence and death the war will cause in the clash against his own relatives. Arjuna wonders if he should renounce and seeks Krishna’s counsel, whose answers and discourse constitute the Bhagavad Gita. Krishna counsels Arjuna to his duty to uphold the Dharma through “selfless action”. The Krishna–Arjuna dialogues cover a broad range of spiritual topics, touching upon ethical dilemmas and thoughtful issues that go far beyond the war Arjuna faces. Krishna is also said to be the first motivational speaker in human history.

Bhagwat Geeta Shlok

यहाँ हम कुछ सबसे प्रसिद्ध भागवत गीता श्लोक और हिंदी में श्लोक का अर्थ भी शामिल करना चाहते हैं। गीता अर्जुन और उनके मार्गदर्शक और सारथी कृष्ण के बीच एक वार्तालाप की कथा संरचना में स्थापित है। पांडवों और कौरवों के बीच धर्म युद्ध की शुरुआत में, अर्जुन हिंसा के बारे में नैतिक दुविधा और निराशा से भर जाता है और युद्ध अपने स्वयं के रिश्तेदारों के खिलाफ संघर्ष का कारण होगा। अर्जुन आश्चर्य करता है कि क्या उसे त्यागना चाहिए और कृष्ण के वकील की तलाश करनी चाहिए, जिनके जवाब और प्रवचन भगवद गीता का गठन करते हैं। कृष्ण ने अर्जुन को “निस्वार्थ कर्म” के माध्यम से धर्म का पालन करने के लिए अपने कर्तव्य का हवाला दिया। कृष्ण-अर्जुन संवाद, आध्यात्मिक विषयों और विचारशील मुद्दों पर स्पर्श करने वाले आध्यात्मिक विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला को कवर करते हैं, जो युद्ध अर्जुन के चेहरे से बहुत आगे जाते हैं। कृष्ण को मानव इतिहास का पहला प्रेरक वक्ता भी कहा जाता है।



Geeta Shlok with Meaning

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत:।
अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्॥

Geeta Shlok 7

(चतुर्थ अध्याय, श्लोक 7)
इस श्लोक का अर्थ है: हे भारत (अर्जुन), जब-जब धर्म ग्लानि यानी उसका लोप होता है और अधर्म में वृद्धि होती है, तब-तब मैं (श्रीकृष्ण) धर्म के अभ्युत्थान के लिए स्वयम् की रचना करता हूं अर्थात अवतार लेता हूं।

The meaning of this Geeta Shlok: Arjuna, whenever the religion is defiled and it grows into unrighteousness, then I (Shri Krishna) create self for the upliftment of religion, that is, incarnate.
——-

परित्राणाय साधूनाम् विनाशाय च दुष्कृताम्।
धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे-युगे॥

Geeta Shlok 8

(चतुर्थ अध्याय, श्लोक 8)
इस श्लोक का अर्थ है: सज्जन पुरुषों के कल्याण के लिए और दुष्कर्मियों के विनाश के लिए और धर्म की स्थापना के लिए मैं (श्रीकृष्ण) युगों-युगों से प्रत्येक युग में जन्म लेता आया हूं।

The meaning of this Geeta Shlok: For the welfare of gentle men and for the destruction of evil men… and for the establishment of religion, I (Shri Krishna) have been born from ages to ages.
——-

यद्यदाचरति श्रेष्ठस्तत्तदेवेतरो जन:।
स यत्प्रमाणं कुरुते लोकस्तदनुवर्तते॥

Geeta Shlok 21

(तृतीय अध्याय, श्लोक 21)
इस श्लोक का अर्थ है: श्रेष्ठ पुरुष जो-जो आचरण यानी जो-जो काम करते हैं, दूसरे मनुष्य (आम इंसान) भी वैसा ही आचरण, वैसा ही काम करते हैं। वह (श्रेष्ठ पुरुष) जो प्रमाण या उदाहरण प्रस्तुत करता है, समस्त मानव-समुदाय उसी का अनुसरण करने लग जाते हैं।

The meaning of this Geeta shloka is: The superior man who conducts, whatever he does, the other human beings (ordinary human beings) also do the same behavior, the same thing. He (the superior man) who presents the proof or example, all human communities start following him.
——-

नैनं छिद्रन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक: ।
न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुत ॥

Geeta Shlok 23

(द्वितीय अध्याय, श्लोक 23)
इस श्लोक का अर्थ है: आत्मा को न शस्त्र काट सकते हैं, न आग उसे जला सकती है। न पानी उसे भिगो सकता है, न हवा उसे सुखा सकती है। (यहां भगवान श्रीकृष्ण ने आत्मा के अजर-अमर और शाश्वत होने की बात की है।)

The meaning of this Geeta shloka: Neither can the soul cut off its weapon, nor can the fire burn it. Neither water can soak it, nor air can dry it. (Here Lord Krishna has spoken of the soul as being immortal and eternal.)
——-

हतो वा प्राप्यसि स्वर्गम्, जित्वा वा भोक्ष्यसे महिम्।
तस्मात् उत्तिष्ठ कौन्तेय युद्धाय कृतनिश्चय:॥

Geeta Shlok 37

(द्वितीय अध्याय, श्लोक 37)
इस श्लोक का अर्थ है: यदि तुम (अर्जुन) युद्ध में वीरगति को प्राप्त होते हो तो तुम्हें स्वर्ग मिलेगा और यदि विजयी होते हो तो धरती का सुख को भोगोगे, इसलिए उठो, हे कौन्तेय (अर्जुन), और निश्चय करके युद्ध करो। (यहां भगवान श्रीकृष्ण ने वर्तमान कर्म के परिणाम की चर्चा की है, तात्पर्य यह कि वर्तमान कर्म से श्रेयस्कर और कुछ नहीं है।)

The meaning of this Geeta verse: If you (Arjuna) attain Viragati in battle, then you will get heaven and if you are victorious you will enjoy the happiness of the earth, so get up, O Kaunteya (Arjuna), and make war with determination. (Here Lord Krishna has discussed the result of the present karma, which means that there is nothing better than the present karma.)
——-

श्रद्धावान्ल्लभते ज्ञानं तत्पर: संयतेन्द्रिय:।
ज्ञानं लब्ध्वा परां शान्तिमचिरेणाधिगच्छति॥

Geeta Shlok 39

(चतुर्थ अध्याय, श्लोक 39)
इस श्लोक का अर्थ है: श्रद्धा रखने वाले मनुष्य, अपनी इन्द्रियों पर संयम रखने वाले मनुष्य, साधनपारायण हो अपनी तत्परता से ज्ञान प्राप्त कते हैं, फिर ज्ञान मिल जाने पर जल्द ही परम-शान्ति (भगवत्प्राप्तिरूप परम शान्ति) को प्राप्त होते हैं।

The meaning of this Geeta shlok: A man of reverence, a man of restraint on his senses, being a resourceful person, attains enlightenment with his readiness, then soon after attaining enlightenment one attains supreme peace (bhagavatprauparupa supreme peace).
——-

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।
मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि॥

Geeta Shlok 47

(द्वितीय अध्याय, श्लोक 47)
इस श्लोक का अर्थ है: कर्म पर ही तुम्हारा अधिकार है, लेकिन कर्म के फलों में कभी नहीं, इसलिए कर्म को फल के लिए मत करो और न ही काम करने में तुम्हारी आसक्ति हो। (यह श्रीमद्भवद्गीता के सर्वाधिक महत्वपूर्ण श्लोकों में से एक है, जो कर्मयोग दर्शन का मूल आधार है।)

The meaning of this Geeta verse: You have authority over karma, but never in the fruits of karma, so do not do karma for fruits nor do you have attachment to work. (This is one of the most important shlokas of Srimadbhavadgita, which is the basic foundation of Karmayog philosophy.)
——-

ध्यायतो विषयान्पुंसः सङ्गस्तेषूपजायते।
सङ्गात्संजायते कामः कामात्क्रोधोऽभिजायते॥

(द्वितीय अध्याय, श्लोक 62)
इस श्लोक का अर्थ है: विषयों (वस्तुओं) के बारे में सोचते रहने से मनुष्य को उनसे आसक्ति हो जाती है। इससे उनमें कामना यानी इच्छा पैदा होती है और कामनाओं में विघ्न आने से क्रोध की उत्पत्ति होती है। (यहां भगवान श्रीकृष्ण ने विषयासक्ति के दुष्परिणाम के बारे में बताया है।)

The meaning of this Geeta verse: By thinking about subjects (objects), a person becomes enamored with them. This creates desire or desire in them and anger arises due to disturbance in desires. (Here Lord Krishna has told about the ill effects of sensuality.)
——-

क्रोधाद्भवति संमोह: संमोहात्स्मृतिविभ्रम:।
स्मृतिभ्रंशाद्बुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्यति॥

Geeta Shlok 63

(द्वितीय अध्याय, श्लोक 63)
इस श्लोक का अर्थ है: क्रोध से मनुष्य की मति मारी जाती है यानी मूढ़ हो जाती है जिससे स्मृति भ्रमित हो जाती है। स्मृति-भ्रम हो जाने से मनुष्य की बुद्धि नष्ट हो जाती है और बुद्धि का नाश हो जाने पर मनुष्य खुद अपना ही का नाश कर बैठता है।

The meaning of this Geeta Shloka: anger kills a man’s heart, that is, it becomes foolish, which confuses memory. Due to memory-illusion, the human intellect is destroyed and when the intellect is destroyed, man himself destroys his own.
——-

सर्वधर्मान्परित्यज्य मामेकं शरणं व्रज।
अहं त्वां सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुच:॥

Geeta Shlok 66

(अठारहवां अध्याय, श्लोक 66)
इस श्लोक का अर्थ है: (हे अर्जुन) सभी धर्मों को त्याग कर अर्थात हर आश्रय को त्याग कर केवल मेरी शरण में आओ, मैं (श्रीकृष्ण) तुम्हें सभी पापों से मुक्ति दिला दूंगा, इसलिए शोक मत करो।

The meaning of this Geeta shloka: Arjuna, After renouncing all religions, that is, renouncing every shelter, come to my refuge only, I (Shri Krishna) will liberate you from all sins, so do not grieve.
——-

Music Video of Bhagwat Geeta Shlok:

Also See:
कबीर के दोहे अर्थ सहित Kabir Ke Dohe and Their Meaning
प्रेरणादायक बॉलीवुड गाने Bollywood’s Best Motivational Songs
शक्तिशाली मंत्र अर्थ सहित Hindi Mantras
आरती संग्रह Aarti Sangrah of Hindu Gods and Goddesses
महाभारत कथा Mahabharat Katha
महाभारत Mahabharat Title Song
गांडीव धारी अर्जुना Gandiv Dhari Arjuna
रामायण Ramayan Songs