सही गलत Sahi Galat Lyrics in Hindi – Drishyam 2


Sahi Galat Lyrics in Hindi sung by King from the movie Drishyam 2 (2022). This song is written and music composed by King. Starring Ajay Devgn and Shriya Saran.

Sahi Galat Song Details

📌 Song Title Sahi Galat
🎞️ Movie Drishyam 2 (2022)
🎤 Singer King
✍️ Lyrics King
🎼 Music King
🏷️ Music Label Panorama Music
▶︎ See music video of Sahi Galat Song on Panorama Music YouTube channel for your reference and song details. Sahi Galat Lyrics in Hindi

Sahi Galat Lyrics in Hindi – King



तू जहाँ से देखता है
मैं ग़लत हूँ तू सही
देख मेरी नज़रो से
ग़लत में कुछ ग़लत नहीं

करना है जो करके ही रहूँगा
मैने तय किया
ग़लत को भी सही तरह से
करने का निश्‍चय किया

लगता है तो देख ज़ुर्म का
ज़िम्मेदार हूँ मैं
जब सबूत ही नहीं तो
कैसे गुनेहगार मैं

पूरे होश-ओ-हवस में किया
जो है किया
ग़लत को भी सही तरह से
करने का निश्‍चय किया

तीर की तरह चलाके
अपने हर उपाय को
मेरे हर कदम के
आड़े आने वाले न्याय को

साम दाम दंड भेद से भी
मैने तय किया
ग़लत को भी सही तरह से
करने का निश्‍चय किया

समझना खुदको मुझसे तेज़
तेरी भूल है
सियार जैसी होशियारी
ये फ़िज़ूल है

तेरा ख़याल ठेकेदार है
तू वक़्त का
बदल के रहता है
ये वक़्त का असूल है

हरकतों पर कब तलक मेरी
नज़र रखेगा तू
करते करते पहरेदारी
एक दिन थकेगा तू

मैं मगर नहीं थकूँगा
फ़ैसला है ये किया
ग़लत को भी सही तरह से
करने का निश्‍चय किया



More Hindi Songs from Drishyam:
साथ हम रहें Saath Hum Rahein
क्या पता Kya Pataa
दम घुटता है Dum Ghutta Hai
क्या रे ज़िन्दगी Kya re Zindagi



Sahi Galat Lyrics in English

Tu jahan se dekhta hai
Main galat hoon tu sahi
Dekh meri nazro se
Galat mein kuch galat nahi

Karna hai jo karke hi rahunga
Maine tay kiya
Galat ko bhi sahi tarah se
Karne ka nischay kiya

Lagta hai to dekh zurm ka
Jimmedar hoon main
Jab saboot hi nahi to
Kaise gunehgar main

Poore hosh-o-hawas mein kiya
Jo hai kiya
Galat ko bhi sahi tarah se
Karne ka nischay kiya

Teer ki tarah chalake
Apne har upaay ko
Mere har kadam ke
Aade aane wale nyay ko

Saam daam dand bhed se bhi
Maine tay kiya
Galat ko bhi sahi tarah se
Karne ka nischay kiya

Samjhna khudko mujhse tez
Teri bhool hai
Siyaar jaisi hoshiyari
Ye fizool hai

Tera khayal thekedar hai
Tu waqt ka
Badal ke rehta hai ye
Waqt ka asool hai

Harkaton par kab talak meri
Nazar rakhega tu
Karte karte pehredari
Ek din thakega tu

Main magar nahi thakunga
Faisla hai ye kiya
Galat ko bhi sahi tarah se
Karne ka nischay kiya