सारे जहाँ से अच्छा Sare Jahan Se Achha Hindustan Humara Lyrics in Hindi

sare jahan se accha

Sare Jahan Se Achha Hindustan Humara song lyrics in Hindi. Sare Jahan Se Achha song was formally known as “Tarānah-e-Hindi” is an Urdu language patriotic song written by Muhammad Iqbal. This song/poem was published in the weekly journal Ittehad on 16 August 1904.

Song Title: Jahan Se Accha Hindustan Humara
Lyrics: Muhammad Iqbal

Sare Jahan Se Achha Lyrics in Hindi

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी ये गुलिस्तां हमारा

ग़ुर्बत में हों अगर हम, रहता है दिल वतन में
समझो वहीं हमें भी दिल है जहाँ हमारा

परबत वह सबसे ऊँचा, हम्साया आसमाँ का
वह संतरी हमारा, वह पासबाँ हमारा

गोदी में खेलती हैं इसकी हज़ारों नदियाँ
गुल्शन है जिनके दम से रश्क-ए-जनाँ हमारा

ऐ आब-ए-रूद-ए-गंगा! वह दिन हैं याद तुझको
उतरा तेरे किनारे जब कारवाँ हमारा

मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना
हिन्दी हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमारा

यूनान-ओ-मिस्र-ओ-रूमा सब मिट गए जहाँ से
अब तक मगर है बाक़ी नाम-ओ-निशाँ हमारा

कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी
सदियों रहा है दुश्मन दौर-ए-ज़माँ हमारा

इक़्बाल! कोई महरम अपना नहीं जहाँ में
मालूम क्या किसी को दर्द-ए-निहाँ हमारा

More Songs You May Like:
# मेरा मुल्क मेरा देश – Diljale
# वो देश हमारा है – Bhai Bhai
# Other Patriotic Songs

Sare Jahan Se Achha Song Details
  • Song Rating
4.2

Summary

Song Title: Jahan Se Accha Hindustan Humara
Lyrics: Muhammad Iqbal
Year: 1904

Sending
User Review
4.5 (8 votes)