गुलाबी Gulabi Lyrics in Hindi – Vishal Mishra, Shreya Ghoshal (Ittu Si Baat)


Gulabi lyrics in Hindi sung by Vishal Mishra and Shreya Ghoshal from the movie Ittu Si Baat. The song is written by Raj Shekhar and music composed by Vishal Mishra. The video features Bhupendra Jadawat and Gayatri Bhardwaj.

Gulabi Song Details

📌 Song Title Gulabi
🎞️ Movie Ittu Si Baat (2022)
🎤 Singer Vishal Mishra, Shreya Ghoshal
✍️ Lyrics Raj Shekhar
🎼 Music Vishal Mishra
🏷️ Music Label Saregama Music
▶︎ See music video of Gulabi Song on Saregama Music YouTube channel for your reference and song details.

Gulabi Lyrics in Hindi



देखो ना कैसे से दिन आ रहे हैं
कैसे यूं ही हम हंसे जा रहे हैं
हँसते हुए सबसे तकरा रहे हैं

तकरा के लोगों से घबरा रहे हैं
हमको पता है ये सब ख्वाब सा हैं
मोहब्बत में सच ये जिये जा रहे हैं

गुलाबी गुलाबी हुए जा रहे हैं
गुलाबी गुलाबी हुए जा रहे हैं
गुलाबी गुलाबी हुए जा रहे हैं
गुलाबी गुलाबी हुए जा रहे हैं

पहाड़ों के ऊपर एक छोटा सा घर हो
कोई पेंटिंग सी हंसी दोपहर हो
हवा में थोड़ी खुनक है गुलाबी
मिलने की जो है तड़प है गुलाबी
गुलाबी पहाड़ पे वैसे ही बादल

ज़मीन तो ज़मीन है फलक भी गुलाबी
हमको पता है ये सब ख्वाब सा हैं
फिर भी मोहब्बत किए जा रहे हैं

गुलाबी गुलाबी हुए जा रहे हैं
गुलाबी गुलाबी हुए जा रहे हैं
गुलाबी गुलाबी हुए जा रहे हैं
गुलाबी गुलाबी हुए जा रहे हैं



More Songs from Ittu Si Baat:
दरबदर Darbadar
सुन भी ले Sun Bhi Le
गुलाबी Gulabi
सतरह लाख दा गजरा 17 Lakh Da Gajra
मिड्डल क्लास Middle Class

Gulabi Lyrics in English

Dekho na kaise se din aa rahe hain
Kaise yun hi hum hanse ja rahe hain
Haste hue sabse takra rahe hain

Takra ke logon se ghabra rahe hain
Hamko pata hai yeh sab khwaab sa hain
Mohabbat mein sach yeh jiye ja rahe hain

Gulaabi gulaabi hue ja rahe hain
Gulaabi gulaabi hue ja rahe hain
Gulaabi gulaabi hue ja rahe hain
Gulaabi gulaabi hue ja rahe hain

Pahadon ke upar ek chhota sa ghar ho
Koyi painting si hansi dopehar ho
Hawaon mein thodi khunak hai gulabi
Milne ki jo hai tadap hai gulabi
Gulabi pahadon pe waise hi baadal

Zameen toh zameen hai falak bhi gulabi
Humko pata hai yeh sab khwaab sa hain
Phir bhi mohabbat kiye ja rahe hain

Gulaabi gulaabi hue ja rahe hain
Gulaabi gulaabi hue ja rahe hain
Gulaabi gulaabi hue ja rahe hain
Gulaabi gulaabi hue ja rahe hain