रात कितनी Raat Kitni Lyrics in Hindi – PALTAN Movie Song | Sonu Nigam

Raat Kitni Lyrics in Hindi


Raat Kitni lyrics in Hindi from J P Dutta’s movie Paltan sung by Sonu Nigam and composed by Anu Malik. Raat Kitni song is written by Javed Akhtar.

Song Title: Raat Kitni Lyrics
Movie: Paltan
Singer: Sonu Nigam
Music: Anu Malik
Music Label: Zee Music Company



Raat Kitni Lyrics in Hindi


रात कितनी दास्ताने कह रही है
इक नदी यादों की है जो बह रही है

रात कितनी दास्ताने कह रही है
इक नदी यादों की है जो बह रही है
मिलने आए हैं हम से
बीते हुवे लमहें कल के
कितने पहचाने चेहरे
तन्हाई में है झलके
यूँ तो कोई है कहाँ कोई कहाँ
यादें लेके आयी है सबको यहाँ
रात कितनी दास्ताने कह रही है
इक नदी यादों की है जो बह रही है

एक माथे पर दमकती एक बिंदी
एक आँचल जाने क्यूँ लहरा रहा है
घर के दरवाज़े पे सुंदर सी रंगोली
फिर कोई त्योहार मिलने आ रहा है
नन्हें-नन्हें पाओं से चलता है कोई
उँगलियों पाओं से चलता है कोई
उँगलियों से जप रहा है कोई माला
एक थाली एक कलाई एक राखी
एक मंदिर एक दीपक एक उजाला

रात कितनी दास्ताने कह रही है
इक नदी यादों की है जो बह रही है

दोस्ती का हाथ है कंधे पे रखा
प्यार से दो आँखें छलकी जा रही हैं
धूप की हैं धज्जियाँ बाग़ों में बिखरी
पेड़ों में छुपके हवाएँ गा रहीं हैं

लम्बी सासें लेते हैं सावन के झूले
घाट पर पायी प्यासी गगरिया हैं
नदियाँ किनारे हैं बनसी का लहरा
एक पगडंडी पे खनकी चूड़ियाँ हैं

रात कितनी दास्ताने कह रही है
इक नदी यादों की है जो बह रही है

मिलने आए हैं हम से
बीते हुवे लमहें कल के
कितने पहचाने चेहरे
तन्हाई में है झलके
यूँ तो कोई है कहाँ कोई कहाँ
यादें लेके आयी है सबको यहाँ
रात कितनी दास्ताने कह रही है
इक नदी यादों की है जो बह रही है

More Songs You May Like:
गोल्ड ताम्बा Gold Tamba – Nakash Aziz

Raat Kitni Lyrics (English)

Raat kitni daastane keh rahi hai
ik nadi yaadon ki hai jo beh rahi hai

raat kitni dastane keh rahi hai
ik nadi yaadon ki hai jo beh rahi hai
milne aaye hain hum se
beete huve lamhein kal ke
kitne pehchaane chehre
tanhaai mein hain chhalke
yun to koi hai kahaan koi kahaan
yaadein leke aayi hai sabko yahaan
raat kitni daastane keh rahi hai
ik nadi yaadon ki hai jo beh rahi hai

ek maathe par damakti ek bindi
ek aanchal jaane kyun lehra raha hai
ghar ke darwaaze pe sundar si rangoli
phir koi tyohaar milne aa raha hai
nanhe nanhe paon se chalta hai koi
ungliyon se jap raha hai koi malaa
ek thaali ik kalaai ek raakhi
ek mandir ek deepak ik ujaala

raat kitni daastane keh rahi hai
ik nadi yaadon ki hai jo beh rahi hai

dosti ka haath hai kandhe pe rakha
pyaar se do aankhein chhalki ja rahi hain
dhoop ki hai dhajjiyan baaghon mein bikhri
pedon mein chhupke hawayein gaa rahi hain

lambi saansein lete hain saawan ke jhoole
ghaat par paayi pyasi gagariya hain
nadiya kinaare hai bansi ka lehra
ek pagdandi pe khanki choodiyan hain

raat kitni daastane keh rahi hai
ik nadi yaadon ki hai jo beh rahi hai

milne aaye hain hum se
beete huve lamhein kal ke
kitne pehchaane chehre
tanhaai mein hain chhalke
yun to koi hai kahaan koi kahan
yaadein leke aayi hai sabko yahaan

raat kitni daastane keh rahi hai
ik nadi yaadon ki hai jo beh rahi hai