अजीब दास्ताँ है ये Ajeeb Dastan Hai Yeh Lyrics in Hindi – Lata Mangeshkar


Ajeeb Dastan Hai Yeh Lyrics in Hindi, sung by Lata Mangeshkar from the movie Dil Apna Aur Preet Parai (1960). This song is written by Shailendra and composed by Shankar Jaikishan. Starring Raj Kumar and Meena Kumari.

Ajeeb Dastan Hai Yeh Song Details

📌 Song Title Ajeeb Dastan Hai Yeh
🎞️ Movie Dil Apna Aur Preet Parai (1960)
🎤 Singer(s) Lata Mangeshkar
✍️ Lyrics Shailendra
🎼 Music Shankar Jaikishan
🏷️ Music Label Saregama

Ajeeb Dastan Hai Yeh Lyrics in Hindi



अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम

ये रौशनी के साथ क्यूँ
धुआं उठा चिराग से
ये ख्वाब देखती हूँ मैं
के जग पड़ी हूँ ख्वाब से

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम

मुबारकें तुम्हें के तुम
किसी के नूर हो गए
किसी के इतने पास हो
के सबसे दूर हो गए

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम

किसी का प्यार ले के तुम
नया जहां बसाओगे
ये शाम जब भी आएगी
तुम हमको याद आओगे

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम



More Songs by Lata Mangeshkar:
तेरा जाना दिल के अरमानों Tera Jana
वादा न तोड़ Wada Na Tod
मैं तेरे इश्क़ में Main Tere Ishq Mein
नैनों में बदरा Nainon Mein Badra Chhaye
निंदिया से जागी बहार Nindiya Se Jaagi Bahar
एक प्यार का नगमा है Ek Pyar Ka Nagma Hai
तुम आ गए हो Tum Aa Gaye Ho
ज़िन्दगी प्यार का गीत है Zindagi Pyar Ka Geet Hai
भाई बत्तूर Bhai Battur
आपकी नज़रों ने समझा Aap Ki Nazron Ne Samjha
सागर किनारे Saagar Kinare

Ajeeb Dastan Hai Yeh Lyrics in English

Ajib dastan hai yeh
Kaha shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham

Ajib dastan hai yeh
Kaha shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham

Yeh roshni ke sath kyu
Dhuan utha chirag se
Yeh roshni ke sath kyu
Dhuan utha chirag se
Yeh khwab dekhti hu mai
Ke jag padi hu khwab se

Ajib dastan hai yeh
Kaha shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham

Mubarke tumhe ke
Tum kisi ke nur ho gaye
Mubarke tumhe ke
Tum kisi ke nur ho gaye
Kisi ke itne pas ho ke
Sab se dur ho gaye

Ajib dastan hai yeh kaha
Shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham

Kisi kaa pyar leke tum
Naya jahan basaoge
Kisi kaa pyar leke tum
Naya jahan basaoge
Yeh sham jab bhi aayegi
Tum hamko yad aaoge

Ajib dastan hai yeh
Kaha shuru kaha khatam
Yeh manjile hai kaun si naa
Woh samajh sake naa ham