नवरात्रि NAVRATRI | 9 (नव) दुर्गा माता आरती Nav Durga Mata Aarti Lyrics in Hindi


नवरात्रि Navratri नव दुर्गा माता आरती Nav Durga Mata Aarti Lyrics in Hindi. We have collected the aartis associated with each of the goddesses worshiped during Navratri and also you know Nav Durgas’ short stories.




नव दुर्गा माता देवी शैलपुत्री आरती Devi Shailputri Aarti
नव दुर्गा माता देवी ब्रह्मचारिणी आरती Devi Brahmacharini Aarti
नव दुर्गा माता देवी चन्द्रघण्टा आरती Devi Chandraghanta Aarti
नव दुर्गा माता देवी कूष्माण्डा आरती Devi Kushmanda Aarti
नव दुर्गा माता देवी स्कन्दमाता आरती Devi Skandmata Aarti
नव दुर्गा माता देवी कात्यायनी आरती Devi Katyayani Aarti
नव दुर्गा माता देवी कालरात्रि आरती Devi Kalratri Aarti
नव दुर्गा माता देवी महागौरी आरती Devi Mahagauri Aarti
नव दुर्गा माता देवी सिद्धिदात्री आरती Devi Siddhidatri Aarti

navratri nav durga aarti lyrics in Hindi

नव दुर्गा माता देवी शैलपुत्री आरती Devi Shailputri Aarti

देवी शैलपुत्री – देवी सती के रूप में आत्मदाह के बाद, मार्कंडेय पुराण के अनुसार देवी पार्वती ने भगवान हिमालय की बेटी के रूप में जन्म लिया। संस्कृत में शैल का अर्थ है पर्वत और जिसके कारण देवी को पर्वत की पुत्री शैलपुत्री के नाम से जाना जाता था।

शैलपुत्री माँ बैल असवार आरती देवी शैलपुत्री को समर्पित है। देवी शैलपुत्री माता पार्वती के नौ अवतारों में से एक हैं और नवरात्रि के पहले दिन उनकी पूजा की जाती है।

मां शैलपुत्री पूजा मंत्र | Shailputri Puja Mantra

वन्दे वांछितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखरम्। वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्।। पूणेन्दु निभां गौरी मूलाधार स्थितां प्रथम दुर्गा त्रिनेत्राम्॥

॥ आरती देवी शैलपुत्री माता की ॥

शैलपुत्री माँ बैल असवार। करें देवता जय जय कार॥
शिव-शंकर की प्रिय भवानी।तेरी महिमा किसी ने न जानी॥

पार्वती तू उमा कहलावें।जो तुझे सुमिरे सो सुख पावें॥
रिद्धि सिद्धि परवान करें तू।दया करें धनवान करें तू॥

सोमवार को शिव संग प्यारी।आरती जिसने तेरी उतारी॥
उसकी सगरी आस पुजा दो।सगरे दुःख तकलीफ मिटा दो॥

घी का सुन्दर दीप जला के।गोला गरी का भोग लगा के॥
श्रद्धा भाव से मन्त्र जपायें।प्रेम सहित फिर शीश झुकायें॥

जय गिरराज किशोरी अम्बे।शिव मुख चन्द्र चकोरी अम्बे॥
मनोकामना पूर्ण कर दो।चमन सदा सुख सम्पत्ति भर दो॥

नव दुर्गा माता देवी ब्रह्मचारिणी आरती Devi Brahmacharini Aarti

देवी ब्रह्मचारिणी – कुष्मांडा रूप के बाद, देवी पार्वती ने दक्ष प्रजापति के घर जन्म लिया। इस रूप में देवी पार्वती एक महान सती थीं और उनके अविवाहित रूप को देवी ब्रह्मचारिणी के रूप में पूजा जाता है। जय अम्बे ब्रह्मचारिणी माता आरती देवी ब्रह्मचारिणी को समर्पित है। देवी ब्रह्मचारिणी माता पार्वती के नौ अवतारों में से एक हैं और नवरात्रि के दूसरे दिन उनकी पूजा की जाती है।

॥ आरती देवी ब्रह्मचारिणी माता की ॥

जय अम्बे ब्रह्मचारिणी माता।जय चतुरानन प्रिय सुख दाता॥
ब्रह्मा जी के मन भाती हो।ज्ञान सभी को सिखलाती हो॥

ब्रह्म मन्त्र है जाप तुम्हारा।जिसको जपे सरल संसारा॥
जय गायत्री वेद की माता।जो जन जिस दिन तुम्हें ध्याता॥

कमी कोई रहने ना पाए।कोई भी दुख सहने न पाए॥
उसकी विरति रहे ठिकाने।जो तेरी महिमा को जाने॥

रद्रक्षा की माला ले कर।जपे जो मन्त्र श्रद्धा दे कर॥
आलस छोड़ करे गुणगाना।माँ तुम उसको सुख पहुँचाना॥

ब्रह्मचारिणी तेरो नाम।पूर्ण करो सब मेरे काम॥
भक्त तेरे चरणों का पुजारी।रखना लाज मेरी महतारी॥

नव दुर्गा माता देवी चन्द्रघण्टा आरती Devi Chandraghanta Aarti

देवी चंद्रघंटा – देवी चंद्रघंटा देवी पार्वती का विवाहित रूप हैं। भगवान शिव से विवाह के बाद देवी महागौरी ने अपने माथे को आधा चंद्र से सजाना शुरू किया और इस वजह से उन्हें देवी चंद्रघंटा के नाम से जाना जाने लगा। जय माँ चन्द्रघण्टा सुख धाम आरती देवी चन्द्रघण्टा को समर्पित है। देवी चन्द्रघण्टा माता पार्वती के नौ अवतारों में से एक हैं और नवरात्रि के तीसरे दिन उनकी पूजा की जाती है।

॥ आरती देवी चन्द्रघण्टा माता की ॥

जय माँ चन्द्रघण्टा सुख धाम।पूर्ण कीजो मेरे काम॥
चन्द्र समाज तू शीतल दाती।चन्द्र तेज किरणों में समाती॥

मन की मालक मन भाती हो।चन्द्रघण्टा तुम वर दाती हो॥
सुन्दर भाव को लाने वाली।हर संकट में बचाने वाली॥

हर बुधवार को तुझे ध्याये।श्रद्दा सहित तो विनय सुनाए॥
मूर्ति चन्द्र आकार बनाए।सन्मुख घी की ज्योत जलाएं॥

शीश झुका कहे मन की बाता।पूर्ण आस करो जगत दाता॥
कांचीपुर स्थान तुम्हारा।कर्नाटिका में मान तुम्हारा॥
नाम तेरा रटू महारानी।भक्त की रक्षा करो भवानी॥

नव दुर्गा माता देवी कूष्माण्डा आरती Devi Kushmanda Aarti

देवी कूष्मांडा – सिद्धिदात्री का रूप धारण करने के बाद, देवी पार्वती सूर्य के केंद्र के अंदर रहने लगीं ताकि वे ब्रह्मांड को ऊर्जा मुक्त कर सकें। तभी से देवी को कुष्मांडा के नाम से जाना जाता है। कुष्मांडा देवी हैं जिनके पास सूर्य के अंदर रहने की शक्ति और क्षमता है। उसके शरीर का तेज और तेज सूर्य के समान तेज है। कूष्माण्डा जय जग सुखदानी आरती देवी कूष्माण्डा को समर्पित है। देवी कूष्माण्डा माता पार्वती के नौ अवतारों में से एक हैं और नवरात्रि के चौथे दिन उनकी पूजा की जाती है।

॥ आरती देवी कूष्माण्डा माता की ॥

कूष्माण्डा जय जग सुखदानी।मुझ पर दया करो महारानी॥
पिङ्गला ज्वालामुखी निराली।शाकम्बरी माँ भोली भाली॥

लाखों नाम निराले तेरे।भक्त कई मतवाले तेरे॥
भीमा पर्वत पर है डेरा।स्वीकारो प्रणाम ये मेरा॥

सबकी सुनती हो जगदम्बे।सुख पहुँचती हो माँ अम्बे॥
तेरे दर्शन का मैं प्यासा।पूर्ण कर दो मेरी आशा॥

माँ के मन में ममता भारी।क्यों ना सुनेगी अरज हमारी॥
तेरे दर पर किया है डेरा।दूर करो माँ संकट मेरा॥

मेरे कारज पूरे कर दो।मेरे तुम भंडारे भर दो॥
तेरा दास तुझे ही ध्याए।भक्त तेरे दर शीश झुकाए॥

नव दुर्गा माता देवी स्कन्दमाता आरती Devi Skandmata Aarti

देवी स्कंदमाता – जब देवी भगवान स्कंद (भगवान कार्तिकेय के रूप में भी जानी जाती हैं) की माता बनीं, तो माता पार्वती को देवी स्कंदमाता के नाम से जाना जाता था। जय तेरी हो स्कन्द माता आरती देवी स्कन्दमाता को समर्पित है। देवी स्कन्दमाता माता पार्वती के नौ अवतारों में से एक हैं और नवरात्रि के पाँचवें दिन उनकी पूजा की जाती है।

॥ आरती देवी स्कन्दमाता माता की ॥

जय तेरी हो स्कन्द माता।पांचवां नाम तुम्हारा आता॥
सबके मन की जानन हारी।जग जननी सबकी महतारी॥

तेरी जोत जलाता रहूं मैं।हरदम तुझे ध्याता रहूं मै॥
कई नामों से तुझे पुकारा।मुझे एक है तेरा सहारा॥

कही पहाड़ों पर है डेरा।कई शहरों में तेरा बसेरा॥
हर मन्दिर में तेरे नजारे।गुण गाए तेरे भक्त प्यारे॥

भक्ति अपनी मुझे दिला दो।शक्ति मेरी बिगड़ी बना दो॥
इन्द्र आदि देवता मिल सारे।करे पुकार तुम्हारे द्वारे॥

दुष्ट दैत्य जब चढ़ कर आए।तू ही खण्ड हाथ उठाए॥
दासों को सदा बचाने आयी।भक्त की आस पुजाने आयी॥

नव दुर्गा माता देवी कात्यायनी आरती Devi Katyayani Aarti

देवी कात्यायनी – महिषासुर राक्षस को नष्ट करने के लिए, देवी पार्वती ने देवी कात्यायनी का रूप धारण किया। यह देवी पार्वती का सबसे हिंसक रूप था। इस रूप में देवी पार्वती को योद्धा देवी के रूप में भी जाना जाता है।

जय अम्बे जय कात्यायनी आरती देवी कात्यायनी को समर्पित है। देवी कात्यायनी माता पार्वती के नौ अवतारों में से एक हैं और नवरात्रि के छठवें दिन उनकी पूजा की जाती है।

॥ आरती देवी कात्यायनी माता की ॥

जय जय अम्बे जय कात्यायनी।जय जग माता जग की महारानी॥
बैजनाथ स्थान तुम्हारा।वहावर दाती नाम पुकारा॥

कई नाम है कई धाम है।यह स्थान भी तो सुखधाम है॥
हर मन्दिर में ज्योत तुम्हारी।कही योगेश्वरी महिमा न्यारी॥

हर जगह उत्सव होते रहते।हर मन्दिर में भगत है कहते॥
कत्यानी रक्षक काया की।ग्रंथि काटे मोह माया की॥

झूठे मोह से छुडाने वाली।अपना नाम जपाने वाली॥
बृहस्पतिवार को पूजा करिए।ध्यान कात्यानी का धरिये॥

हर संकट को दूर करेगी।भंडारे भरपूर करेगी॥
जो भी माँ को भक्त पुकारे।कात्यायनी सब कष्ट निवारे॥

नव दुर्गा माता देवी कालरात्रि आरती Devi Kalratri Aarti

देवी कालरात्रि – जब देवी पार्वती ने शुंभ और निशुंभ नामक राक्षसों को मारने के लिए बाहरी सुनहरी त्वचा को हटा दिया, तो उन्हें देवी कालरात्रि के रूप में जाना गया। कालरात्रि देवी पार्वती का सबसे उग्र और सबसे क्रूर रूप है।

कालरात्रि जय जय महाकाली आरती देवी कालरात्रि को समर्पित है। देवी कालरात्रि माता पार्वती के नौ अवतारों में से एक हैं और नवरात्रि के सातवें दिन उनकी पूजा की जाती है।

॥ आरती देवी कालरात्रि माता की ॥

कालरात्रि जय जय महाकाली।काल के मुंह से बचाने वाली॥
दुष्ट संघारक नाम तुम्हारा।महाचंडी तेरा अवतारा॥

पृथ्वी और आकाश पे सारा।महाकाली है तेरा पसारा॥
खड्ग खप्पर रखने वाली।दुष्टों का लहू चखने वाली॥

कलकत्ता स्थान तुम्हारा।सब जगह देखूं तेरा नजारा॥
सभी देवता सब नर-नारी।गावें स्तुति सभी तुम्हारी॥

रक्तदन्ता और अन्नपूर्णा।कृपा करे तो कोई भी दुःख ना॥
ना कोई चिंता रहे ना बीमारी।ना कोई गम ना संकट भारी॥

उस पर कभी कष्ट ना आवे।महाकाली माँ जिसे बचावे॥
तू भी भक्त प्रेम से कह।कालरात्रि माँ तेरी जय॥

नव दुर्गा माता देवी महागौरी आरती Devi Mahagauri Aarti

देवी महागौरी – हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, सोलह वर्ष की आयु में देवी शैलपुत्री अत्यंत सुंदर थीं और उन्हें गोरा रंग प्राप्त था। अपने अत्यधिक गोरे रंग के कारण उन्हें देवी महागौरी के नाम से जाना जाता था। जय महागौरी जगत की माया आरती देवी महागौरी को समर्पित है। देवी महागौरी माता पार्वती के नौ अवतारों में से एक हैं और नवरात्रि के आठवें दिन उनकी पूजा की जाती है।

॥ आरती देवी महागौरी माता की ॥

जय महागौरी जगत की माया।जय उमा भवानी जय महामाया॥
हरिद्वार कनखल के पासा।महागौरी तेरा वहा निवास॥

चन्द्रकली और ममता अम्बे।जय शक्ति जय जय माँ जगदम्बे॥
भीमा देवी विमला माता।कौशिक देवी जग विख्यता॥

हिमाचल के घर गौरी रूप तेरा।महाकाली दुर्गा है स्वरूप तेरा॥
सती (सत) हवन कुंड में था जलाया।उसी धुएं ने रूप काली बनाया॥

बना धर्म सिंह जो सवारी में आया।तो शंकर ने त्रिशूल अपना दिखाया॥
तभी माँ ने महागौरी नाम पाया।शरण आनेवाले का संकट मिटाया॥

शनिवार को तेरी पूजा जो करता।माँ बिगड़ा हुआ काम उसका सुधरता॥
भक्त बोलो तो सोच तुम क्या रहे हो।महागौरी माँ तेरी हरदम ही जय हो॥



नव दुर्गा माता देवी सिद्धिदात्री आरती Devi Siddhidatri Aarti

देवी सिद्धिदात्री – सृष्टि के आदि में भगवान रुद्र ने आदि-पराशक्ति की सृष्टि के लिए उपासना की थी। ऐसा माना जाता है कि देवी आदि-पराशक्ति का कोई रूप नहीं था। शक्ति की सर्वोच्च देवी, आदि-पराशक्ति, भगवान शिव के बाएं आधे हिस्से से सिद्धिदात्री के रूप में प्रकट हुईं। जय सिद्धिदात्री माँ तू सिद्धि की दाता आरती देवी सिद्धिदात्री को समर्पित है। देवी सिद्धिदात्री माता पार्वती के नौ अवतारों में से एक हैं और नवरात्रि के नौवें दिन उनकी पूजा की जाती है।

॥ आरती देवी सिद्धिदात्री माता की ॥

जय सिद्धिदात्री माँ तू सिद्धि की दाता।
तु भक्तों की रक्षक तू दासों की माता॥

तेरा नाम लेते ही मिलती है सिद्धि।
तेरे नाम से मन की होती है शुद्धि॥

कठिन काम सिद्ध करती हो तुम।
जभी हाथ सेवक के सिर धरती हो तुम॥

तेरी पूजा में तो ना कोई विधि है।
तू जगदम्बें दाती तू सर्व सिद्धि है॥

रविवार को तेरा सुमिरन करे जो।
तेरी मूर्ति को ही मन में धरे जो॥

तू सब काज उसके करती है पूरे।
कभी काम उसके रहे ना अधूरे॥

तुम्हारी दया और तुम्हारी यह माया।
रखे जिसके सिर पर मैया अपनी छाया॥

सर्व सिद्धि दाती वह है भाग्यशाली।
जो है तेरे दर का ही अम्बें सवाली॥

हिमाचल है पर्वत जहां वास तेरा।
महा नंदा मंदिर में है वास तेरा॥

मुझे आसरा है तुम्हारा ही माता।
भक्ति है सवाली तू जिसकी दाता॥

नव दुर्गा माता की उप्पर की लिस्ट में जाएँ

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. हिंदीट्रैक्स इसकी पुष्टि नहीं करता है.



More Songs You may Like:
जय अम्बे गौरी Ambe Mata Aarti
तू ही दुर्गा Tu Hi Durga
दुर्गा है मेरी माँ Durga Hai Meri Maa
ओ माँ शेरोंवाली Maa Sherawali
माता शेरां वालिए Mata Sheranwaliye
महिषासुर मर्दिनी Mahalaya Song
श्री दुर्गा चालीसा Shri Durga Chalisa
अम्बे तू है जगदम्बे Durga Mata Aarti
राम नवमी स्पेशल भजन Ram Navami Songs
हम कथा सुनाते [Ramayan Song]
Aarti of other God & Goddess
Other Bhakti songs