रंगरेज़ Rangrez Lyrics in Hindi – Arjun Kanungo


Rangrez Lyrics in Hindi sung by Arjun Kanungo. Featuring Arjun Kanungo and Aisha Sharma. This song is written by Shakeel Azmi and music composed by Anurag Saikia.

Rangrez song details

📌 Song Title Tera Tha Tera Hoon
🎤 Singer Arjun Kanungo
✍️ Lyrics Shakeel Azmi
🎼 Music Anurag Saikia
🏷️ Music Label Sony Music India
▶︎ See music video of Rangrez Song on T-Series YouTube channel for your reference and song details. Rangrez lyrics in Hindi

Rangrez Lyrics in Hindi



मिलो दोबारा किसी दिन मुझे
निगाहों में साज़िशें लिए
यूँ ही ज़रा मेरे पास आओ तुम
मोहब्बत की बारिशें लिए

इन सादा सादा बेरंगियों में कोई
रंग आके लागा जाओ तुम

कभी आओ तुम कभी आओ तुम
रंगरेज़ मेरे रंगरेज़ मेरे
कभी आओ तुम

कभी आओ तुम कभी आओ तुम
रंगरेज़ मेरे रंगरेज़ मेरे
कभी आओ तुम

तेरे ख़यालों की एक सड़क है
जिसपे संग तेरे चलता हूँ में
में बनके सूरज तुझी में निकलूं
और तुझमे ही जलता हूँ में

मेरे धूप धूप इन मौसमो पे कभी
शाम की तरह छा जाओ तुम

कभी आओ तुम कभी आओ तुम
रंगरेज़ मेरे रंगरेज़ मेरे
कभी आओ तुम

कभी आओ तुम कभी आओ तुम
रंगरेज़ मेरे रंगरेज़ मेरे
कभी आओ तुम

हवा में घुल के तू खुशबूओं सी
ज़ुल्फ की तरहा मुझपे बिखर
तू भीगे बदल की सीढ़ियों से
मेरी आँखों की छत पे उतर

अपनी बूँद बूँद चाहत की बरसात में
मुझको पूरा भीगा जाओ तुम

कभी आओ तुम कभी आओ तुम
रंगरेज़ मेरे रंगरेज़ मेरे
कभी आओ तुम

कभी आओ तुम कभी आओ तुम
रंगरेज़ मेरे रंगरेज़ मेरे
कभी आओ तुम



More Songs by Arjun Kanungo:
दिल किसी से Dil Kisi Se
तुम ना हो Tum Na Ho
तू ना मेरा Tu Na Mera
दिल खो के Dil Kho Ke

Rangrez Lyrics in English

Milo dobara kisi din mujhe
Nigahon mein saazishein liye
Yun hi zara mere paas aao tum
Mohabbat ki baarishein liye

In saada saada berangiyon mein koyi
Rang aake laaga jao tum

Kabhi aao tum kabhi aao tum
Rangrez mere rangrez mere
Kabhi aao tum

Kabhi aao tum kabhi aao tum
Rangrez mere rangrez mere
Kabhi aao tum

Tere khayalon ki ek sadak hai
Jispe sang tere chalta hoon mein
Mein banke suraj tujhi mein nikloon
Aur tujhme hi jalta hoon mein

Mere dhoop dhoop in mausamo pe kabhi
Shaam ki tarah chha jao tum

Kabhi aao tum kabhi aao tum
Rangrez mere rangrez mere
Kabhi aao tum

Kabhi aao tum kabhi aao tum
Rangrez mere rangrez mere
Kabhi aao tum

Hawa mein ghul ke tu khushbuon si
Zulf ki tarha mujhpe bikhar
Tu bheege badal ki seedhiyon se
Meri aankhon ki chhat pe utar

Apni boond boond chahat ki barsaat mein
Mujhko poora bheega jao tum

Kabhi aao tum kabhi aao tum
Rangrez mere rangrez mere
Kabhi aao tum

Kabhi aao tum kabhi aao tum
Rangrez mere rangrez mere
Kabhi aao tum